Roots (जड़)

सोच ही जड़ है अगर तो नयी सोच की भूक जगानी होगी। सोच बदलोगे, तो हम अछे पूर्वज कहलाएँगे।फिर भी सिर्फ़ कहना “Remember your roots”;क्यूँकि समय के साथ नयी जड़ो की ज़रूरत होगी,नयी सोच की ज़रूरत होगी। हम नहीं रहेंगे पर, कुछअच्छा छोड़ जाएँगे।  पेड़ों को काट दे, कचड़ो को जलाकनदियों में बहा दे;धुँआ की जैसे आदत ही हो गयी है,और जानवरों को खाना हमें सही लगे।क्या यही हम कर के जाएँगे?क्या इन जड़ो के साथ जी पाएँगे आने वाली फ़सल, और नई डालियाँ?कौन देख पाएगा लटकते आम,और हथेली पे महसूस बारिश के बूंद?क्या सोच…

Read More

All In A Toothbrush

My life is moving fast, So is yours my friend. From the toothbrush at dawn To the toothbrush at bed, I’m thinking, and my brain is running; Running at the speed of lightning. Can you see the sparks? My heart is racing with time, 90 beats per min, now a 100. And all the food…

Read More